विज्ञापन

Mpboard hindi imp questions 11th 2020-2021

Mpboard hindi imp questions 11th 2020-2021

Mpboard hindi imp questions class-11th

Mpboard hindi imp questions class-11th mp board 2020 hindi imp 11th mpboard
class 11th hindi imp questions 

(1) उत्साह
-आचार्य रामचन्द्र शुक्ल 
महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर

परीक्षा में आने योग्य संभावित महत्वपूर्ण प्रश्न



प्रश्न 1. उत्साह के बीच किसका संचरण होता है ?
👇 Answer is
उत्तर- उत्साह के बीच धृति और साहस दोनों का संचरण होता है।







प्रश्न 2. लेखक ने वीरों के कितने प्रकार बताए हैं ?

👇 Answer is
उत्तर- लेखक ने वीरों के चार प्रकार-युद्धवीर, दानवीर, दयावीर तथा धर्मवीर बताए हैं ये चारों हो श्रेष्ठ प्रकार के वीर होते हैं ।







प्रश्न 3. प्रयत्न किसे कहते हैं ?

👇 Answer is
उत्तर- युद्धि के द्वारा पूरी तरह निश्चित की गई व्यापार परम्परा प्रयत्न कहलाती है।







प्रश्न 4. प्रत्येक कर्म में किस तत्व का योग रहता है ?

👇 Answer is
उत्तर-व्यक्ति को कर्म में प्रवृत्त होने की प्रेरणा उसके हृदय में उठने वाले उल्लासमय आनन्द से मिलती है। कठिन परिस्थिति में प्रस्तुत कर्म-सुख की उमंग ही उसे प्रयत्नशील बनाती है। इसके मूल में साहस का होना भी आवश्यक है। इस प्रकार प्रत्येक कर्म में साहसपूर्ण आनन्द की उमंग का योग रहता है।







प्रश्न 5. फलासक्ति का क्या प्रभाव पड़ता है ?

👇 Answer is
उत्तर-फलासक्ति का कत्त्ता पर उचित प्रभाव नहीं पड़ता है। जब फल के प्रति आसक्ति होगी तो सम्पूर्ण शक्ति से व्यक्ति कर्म में संलग्न नहीं हो सकेगा| फल की आसक्ति उसे कर्म के प्रति शिथिल बना देगी अतः आसक्ति तो उपस्थित के प्रति होनी चाहिए। सामने उपस्थित कर्म होता है, अत: उसी के प्रति आसक्ति होना उचित है जब निश्चित योजनाबद्ध तरीके से कर्म किया जायेगा, तो फल की सम्भावना प्रबल हो जाएगी। फलासक्ति का कर्म के ऊपर विपरीत प्रभाव पड़ता है, इसलिए जीवन में कहा गया है-'कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन।'







प्रश्न 6. भय और उत्साह में क्या अन्तर है ?

👇 Answer is
उत्तर-भय और उत्साह दोनों विरोधी भाव हैं। भय का स्थान दु:ख वर्ग में है तथा उत्साह का स्थान सुख-वर्ग में है। भय में व्यक्ति कठिन स्थिति से दुःखी होता है और डरकर भागने का प्रयत्न करता है, जबकि उत्साह में व्यक्ति आने वाली कठिन स्थिति में साहसपूर्वक कर्म सुख की उमंग से प्रयासशील होते हैं। भय नकारात्मक है जबकि उत्साह सकारात्मक भाव है। भय कर्म तथा जीवन से पलायन का भाव जगाता है, जबकि उत्साह कर्म में संलग्न होकर लोकोपकारी जीवन जीने की प्रेरणा देता है। इस प्रकार भय और उत्साह में बहुत अन्तर है।






xxxxx

0 Response to "Mpboard hindi imp questions 11th 2020-2021"

टिप्पणी पोस्ट करें

Iklan Atas Artikel

adz

विज्ञापन