विज्ञापन

Economics Most imp questions class-11th mp board अर्थशास्त्र के मोस्ट प्रश्न 2021

Economics Most imp questions class-11th mp board अर्थशास्त्र के मोस्ट प्रश्न 2021

Economics Most imp question 2021


mp board class 11 economics imp question 2021 अर्थशास्त्र महत्वपूर्ण प्रश्न मध्यप्रदेश बोर्ड कक्षा 11

कक्षा 11 वीं एनसीईआरटी अर्थशास्त्र महत्वपूर्ण प्रश्न मध्य प्रदेश बोर्ड mp board 11th economics most important questions 2021

most imp question 11th economics mp board 2021

mp board 11th economics important questions 2021 mp board 11th economics important questions 2021
economics most imp question 2021
Economics Most imp questions class-11th mp board अर्थशास्त्र के मोस्ट प्रश्न 2021 chapter-1

प्रश्न 1. प्रो. मार्शल की परिभाषा दीजिए।
👇 Answer is
उत्तर-"अर्थशास्त्र मनुष्य के जीवन की साधारण व्यापार सम्बन्धी क्रियाओं का अध्ययन है। यह इस बात की विवेचना करता है कि वह किस प्रकार धनोपार्जन करता है और किस प्रकार उसका उपयोग करता है। इस प्रकार, यह एक ओर धन का अध्ययन है और दूसरी ओर, जो अधिक महत्वपूर्ण है, मनुष्य के अध्ययन का एक भाग है।"








प्रश्न 2. प्रो. रॉबिन्स की परिभाषा दीजिए।

👇 Answer is
उत्तर-"अर्थशास्त्र वह विज्ञान है जो लक्ष्यों तथा उनके सीमित एवं वैकल्पिक उपयोग वाले साधनों के परस्पर सम्बन्धों के रूप में मानव व्यवहार का अध्ययन करता है ।"








प्रश्न 3. सांख्यिकी के कोई दो कार्य लिखिए ।

👇 Answer is
उत्तर- 
(1) विशाल एवं जटिल तथ्यों को सरल बनाती है, 
(2) सांख्यिकी तथ्यों को एक निश्चित रूप में प्रस्तुत करती है, 
(3) सांख्यिकी विभिन्न तथ्यों की आपस में तुलना करने का कार्य करती है।,








प्रश्न 4. सांख्यिकी की सीमाएँ बताइए।

👇 Answer is
उत्तर- 
(1) सांख्यिकी केवल संख्यात्मक तथ्यों का अध्ययन करती है, गुणात्मक तथ्यों का नहीं, 
(2) सांख्यिकी समूहों का अध्ययन करती है व्यक्तिगत इकाइयों का नहीं, 
(3) सांख्यिकीय समंकों का सजातीय होना आवश्यक है।,








प्रश्न 5. धन सम्बन्धी परिभाषा की आलोचना कीजिए ।

👇 Answer is
उत्तर-धन सम्बन्धी परिभाषा की प्रमुख आलोचनाएँ निम्नलिखित हैं- 
 (1) धन का अशुद्ध अर्थ-प्राचीन परिभाषाओं के अनुसार केवल स्थूल पदार्थ ही धन के अन्तर्गत शामिल किये जाते थे, किन्तु धन का यह अर्थ सही नहीं है। वर्तमान समय में, वे सभी वस्तुएँ जिनमें स्वल्पता, उपयोगिता तथा विनिमय - साध्यता के गुण होते हैं, धन के अन्तर्गत आती हैं। उदाहरणार्थ न तो देखा और न ही छुआ जा सकता है। अत: प्राचीन परिभाषा दोषयुक्त थी। 
 (2) मानव को गौण स्थान देना उचित नहीं- एडम स्मिथ आदि अर्थशास्त्रियों ने अर्थशास्त्र की परिभाषा में धन पर अधिक जोर दिया है जो कि परिभाषाओं का सबसे बड़ा दोष है, क्योंकि मनुष्य धन के लिए नहीं होता है, धन मनुष्य के लिए है। उसी की सहायता से वह अपनी समस्त आवश्यकताओं की पूर्ति करता है।,








प्रश्न 6. र्पो. मार्शल द्वारा दी गई अर्थशास्त्र की परिभाषा की विशेषताएं समझाइए।

👇 Answer is
उत्तर-मार्शल द्वारा दी गयी कल्याण सम्बन्धी परिभाषा में निम्न विशेषताएँ पायी जाती हैं- 
 (1) अर्थशास्त्र मुख्यत: धन का नहीं वरन् मनुष्य का अध्ययन है - माशल के अनुसार, अर्थशास्त्र के अध्ययन का केन्द्र बिन्दु मनुष्य है। उन्होंने धन की अपेक्षा मनुष्य को अधिक महत्व दिया। उनके अनुसार धन मनुष्य के लिए है, मनुष्य धन के लिए नहीं। धन तो मात्र एक साधन है, साध्य नहीं। साध्य तो मानव कल्याण है। 
 (2) जीवन के साधारण व्यवसाय का अध्ययन - मार्शल ने अपनी परिभाषा में स्पष्ट किया था कि अर्थशास्त्र के अन्तर्गत मनुष्य की साधारण व्यवसाय सम्बन्धी क्रियाओं का अध्ययन किया जाता है। यहाँ पर साधारण व्यवसाय से तात्पर्य, एक साधारण मनुष्य द्वारा आय कमाने व उसका प्रयोग करने से है। 
 (3) भौतिक साधनों का अध्ययन-मार्शल के अनुसार, अर्थशास्त्र के अध्ययन का उद्देश्य भौतिक कल्याण है, अर्थात् अर्थशास्त्र में मात्र ऐसे भौतिक साधनों का अध्ययन किया जाता है जिनके द्वारा मनुष्यों का कल्याण होता है। अभौतिक कल्याण को उन्होंने इसके अध्ययन में शामिल नहीं किया। 
 (4) व्यक्ति की सामाजिक क्रियाओं का अध्ययन-प्रो. मार्शल के अनुसार, अर्थशास्त्र में व्यक्ति की केवल सामाजिक क्रियाओं का ही अध्ययन किया जाता है। समाज से अलग रहने वाले व्यक्तियों; जैसे साधु, सन्त आदि की क्रियाओं का अध्ययन इसमें नहीं किया जाता है।,








प्रश्न 7. सांख्यिकी का अर्थ एवं परिभाषा दीजिए ।

👇 Answer is
उत्तर- "सांख्यिकी एक विज्ञान एवं कला है जो सामाजिक, आर्थिक, प्राकृतिक व अन्य समस्याओं से सम्बन्धित समंकों के संग्रहण, वर्गीकरण, सारणीयन, प्रस्तुतीकरण,विश्लेषण, निर्वचन एवं पूर्वानुमान से सम्बन्ध रखती है, ताकि निर्धारित उद्देश्य की प्राप्ति हो सके।"








प्रश्न 8. एकवचन के रूप में सांख्यिकी को समझाइए।

👇 Answer is
उत्तर- एकवचन या विज्ञान के रूप में सांख्यिकी की परिभाषाएँ 
(1) बॉडिंगटन के अनुसार, "सांख्यिकी अनुमानों एवं सम्भाविताओं का विज्ञान है।" 
(2) प्रो. सेलिगमैन के अनुसार, "सांख्यिकी वह विज्ञान है, जो ऐसे ठोस समंकों के संकलन, वर्गीकरण, प्रदर्शन तथा निर्वचन की पद्धतियों से सम्बन्ध रखता है, जो जाँच के किसी क्षेत्र पर प्रकाश डालने के लिए एकत्र किये गये हों।" 
(3) क्रॉक्स्टन एवं काउडेन के अनुसार, "सांख्यिकी की संख्या सम्बन्धी समंकों के संग्रह, प्रस्तुतीकरण, विश्लेषण एवं निर्वचन के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।",








प्रश्न 9. बहुवचन के रूप में सांख्यिकी को समझाइए।

👇 Answer is
उत्तर- बहुवचन या आँकड़ों के रूप में सांख्यिकी की परिभाषाएँ 
(1) यूल एवं केण्डाल के अनुसार, "समंकों से तात्पर्य उन आँकड़ों से है जो पर्याप्त सीमा तक अनेक प्रकार के कारणों से प्रभावित होते हैं।' 
(2) प्रो. बाउले के अनुसार, "समंक अनुसन्धान के किसी विभाग में तथ्यों के संख्यात्मक विवरण हैं, जिन्हें एक-दूसरे से सम्बन्धित रूप में प्रस्तुत किया जाता हैं।" 
(3) प्रो. होरेस सेक्राइस्ट के अनुसार, "समंक से हमारा अभिप्राय तथ्यों के उन समूहों से है जो अगणित कारणों से पर्याप्त सीमा तक प्रभावित होते हैं, जो संख्याओं में व्यक्त किये जाते हैं, एक उचित मात्रा की शुद्धता के अनुसार गिने या अनुमानित किये जाते हैं, किसी पूर्व निश्चित उद्देश्य के लिए एक व्यवस्थित ढंग से एकत्र किये जाते हैं और एक-दूसरे से सम्बन्धित रूप में प्रस्तुत किये जाते हैं।"








प्रश्न 10. समंक से क्या आशय है ? इसकी तीन विशेषताएँ समझाइए। अथवा समंकों की विशेषताओं का वर्णन कीजिए।

👇 Answer is
उत्तर-समंक का आशय-होरेस सेर्काइस्ट के अनुसार, "समंकों से हमारा आशय तथ्यों के समूह से है जो कि पर्याप्त सीमा तक अनेक कारणों से प्रभावित होते हैं, जिनको अंकों में व्यक्त किया जाता है, जो कि गणना किए जाते हैं याशुद्धता के उचित स्तर के आधार पर अनुमानित किए जाते हैं, जिनको पूर्ण निश्चित उद्देश्य के लिए व्यवस्थित ढंग से एकत्रित किया जाता है तथा उन्हें एक-दूसरे से सम्बन्ध स्थापित करके रखा जाता है।" समंकों की विशेषताएँ 
(1) समंकों में केवल वे तथ्य शामिल किये जाते हैं, जिन्हें संख्याओं में रखा जा सकता है। 
 (2) समंक तथ्यों के समूह के रूप में होते हैं, अकेली संख्या या तथ्य को समंक नहीं कहा जा सकता है। 
 (3) समंकों में केवल उन्हीं संख्यात्मक तथ्यों को शामिल किया जाता है, जो अनेक कारणों से प्रभावित होते हैं, क्योंकि ऐसा होने पर ही उनके सांख्यिकी विश्लेषण की आवश्यकता पड़़ती है।








प्रश्न 11. सांख्यिकी का अर्थशास्त्र में महत्व समझाइए।

👇 Answer is
उत्तर-आर्थिक विश्लेषण में सांख्यिकी का बहुत महत्व है। सांख्यिकी के द्वारा सभी आर्थिक क्रियाओं का उचित अध्ययन एवं व्याख्या सम्भव है। चाहे वे क्रियाएँ उपभोग, उत्पादन, विनिमय, वितरण या राजस्व किसी भी क्षेत्र से सम्बन्धित हों। उपभोग के क्षेत्र में समंकों के द्वारा यह ज्ञात होता है कि आय-व्यय किस प्रकार करना चाहिए। उत्पादन के लिए किस-किस साधन की कितनी-कितनी आवश्यकता पड़ेगी। विभिन्न वर्षों में उत्पादन की क्या मात्रा उत्पन्न की गई आदि बातों का ज्ञान सांख्यिकी से होता है। राष्ट्रीय आय तथा वितरण के सम्बन्ध में नीतियाँ सांख्यिकी की सहायता से बनायी जा सकती हैं। अन्त में, राजस्व के क्षेत्र में भी साख्यिकी से यह पता लगाया जा सकता है कि समाज के किस वर्ग की कितनी कर क्षमता है। किन-किन वस्तुओं तथा व्यक्तियों पर कर लगाना चाहिए। कर की मात्रा कितनी होनी चाहिए, आदि बातें समंकों की सहायता से पता चलती हैं।







प्रश्न 12. सांख्यिकी की प्रकृति को समझाइए।
👇 Answer is
उत्तर- सांख्यिकी एक विज्ञान है-सामान्यत: विज्ञान ज्ञान की उस शाखा को कहते है, जिसमें निम्न लक्षण होते हैं- (i) विज्ञान ज्ञान का क्रमबद्ध अध्ययन है, 
(ii) इसमें नियमों और सिद्धान्तों का समूह होता है, 
(iii) ये नियम और सिद्धान्त कारण तथा परिणामों के सम्बन्धों पर आधारित होते हैं तथा 
 (iv) विज्ञान के नियम तथा विधियाँ सार्वभौमिक होती हैं। उपर्युक्त लक्षणों के आधार पर सांख्यिकी को देखा जाये तो स्पष्ट होगा कि इसमें विज्ञान के सभी गुण पाये जाते हैं। सांख्यिकी कला है-कला का अर्थ किसी दिये हुये लक्ष्य या उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए कार्य करने की सर्वोत्तम विधि से है। विज्ञान यह बताता है कि समस्या क्या है ? कला यह बताती है कि समस्या हल कैसे की जाये? इसीलिये यह कहा जाता है कि कला केवल तथ्यों का वर्णन ही नहीं करती, वरन् लक्ष्य को प्राप्त करने के उपाय भी बताती है। इस दृष्टि से सांख्यिकी निश्चित रूप से कला भी है। अन्त में, हम यह कह सकते हैं कि सांख्यिकी विज्ञान और कला दोनों ही है।






प्रश्न 13. अर्थशास्त्र के अध्ययन का महत्व बताइए अन्यथा आप अर्थशास्त्र का अध्ययन क्यों करना चाहते हैं बताइए ?
👇 Answer is
उत्तर- (1) अर्थव्यवस्था को समझने में सहायक - अर्थशास्त्र का अध्ययन सम्पूर्ण अर्थव्यवस्था को समझने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके अध्ययन से अर्थव्यवस्था की प्रगति की सम्पूर्ण झाँकी मिलती है।
(2) व्यावसायिक समस्याओं के समाधान में सहायक - वर्तमान जटिल आर्थिक युग में, प्रत्येक व्यवसायी एवं उद्योगपति को पग-पग पर अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अर्थशास्त्र का अध्ययन इन समस्याओं के समाधान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 
(3) आर्थिक नीतियों के निर्धारण में सहायक - अर्थशास्त्र के सिद्धान्त एवं नीतियाँ भावी आर्थिक योजनाओं एवं नीतियों के निर्धारण में भी सहायक हैं। एक व्यक्ति, व्यवसाय, फर्म, उद्योग एवं राष्ट्र की आर्थिक योजनाओं एवं नीतियों का निर्धारण भूतकालीन आर्थिक परिणामों के विश्लेषण, वर्तमान आर्थिक परिस्थितियों के सन्दर्भ तथा भावी आर्थिक पूर्वानुमानों के सन्दर्भ में किया जाता है । 
 (4) राष्ट्रीय आय के वितरण में सहायक-किसी भी वस्तु या सेवा का उत्पादन, उत्पादन के विभिन्न साधनों के संयुक्त प्रयास का परिणाम होता है। इस सम्बन्ध में एक मुख्य समस्या यह उत्पन्न होती है कि इन सभी साधनों के मध्य राष्ट्रीय आय का वितरण किस प्रकार किया जाये। वितरण के सामान्य सिद्धान्त, लगान का सिद्धान्त, मजदूरी का सिद्धान्त, व्याज का सिद्धान्त तथा लाभ का सिद्धान्त इस समस्या के समाधान में सहायता करते हैं।






mp board 11th economic imp question 2021,mp board business economics important question 2021most imp question 11th economics mp board 2021important questions of economics class 11 mp board 2021कक्षा 11 वीं एनसीईआरटी अर्थशास्त्र महत्वपूर्ण प्रश्न मध्य प्रदेश बोर्ड

xxxxx

0 Response to "Economics Most imp questions class-11th mp board अर्थशास्त्र के मोस्ट प्रश्न 2021"

टिप्पणी पोस्ट करें

Iklan Atas Artikel

adz

विज्ञापन